इन वजहों से बढ़ रहे हैं प्याज़ के दाम, जानिए पूरा फंडा

केंद्र सरकार ने बढ़ती हुई प्याज़ के दामों को देखते हुए सोमवार को तत्काल इसके निर्यात पर रोक लगा दिया ताकि प्याज़ के कीमतों पर नियंत्रण रखा जा सके।

प्याज़ का इतिहास लगभग 4,000 साल पुराना है। जिसका पता मेसोपोटामिया काल के एक लेख से चलता है। 1985 में एक फ्रेंच पुरातत्वविद ने इस लेख को सबसे पहले पढ़ा था।
इतिहासकारों का मानना है कि प्याज़ सबसे पहले मध्यए शिया में उगाया गया और इसका उत्पादन दुनिया में सबसे ज्यादा होता है। संयुक्त राज्य के अनुसार दुनिया के लगभग 175 देश प्याज़ का उत्पादन करते हैं। दुनिया का कुल 45 फीसदी प्याज़ का उत्पादन भारत और चीन में की जाती है लेकिन इसे खाने के मामले में दोनों देश दुनिया में शीर्ष पर नहीं है।

प्याज़ का ज़िक्र लगभग हर काल में किया जाता रहा है। इसका ज़िक्र क़ुरान तथा बाइबल में भी की गई है, तथा इसका उपयोग बरसों से दवा के रूप में भी की जाती है।
प्याज़ का उपयोग लगभग हर अच्छे-अच्छे व्यंजन में किया जाता है। इसलिए प्याज़ का दाम जब भी बढ़ता है। इस पर राजनीति शुरू हो जाती है। एक बार फ़िर से भारत में प्याज़ के दाम आसमान छू रहे हैं और इसको लेकर राजनीति अपने चरम पर है।
दिल्ली में बीते हफ्ते प्याज़ का खुदरा दाम 50 रु किलो था। कई जगह इससे अधिक दामों में भी प्याज़ बेची जा रही थी। सितंबर – अक्टूबर में लगभग हर साल प्याज़ के दाम बढ़ने लगते है, तथा इसकी वज़ह बारिश को बताया जाता है। कई व्यपारियों का कहना है कि मंडी में प्याज़ का आना कम हो गया है। जिसके वज़ह से आने वाले दो-तीन दिन में प्याज़ के दामों में और अधिक बढ़ोतरी होगी।

प्याज़ निर्यात पर केंद्र सरकार ने लगाया बैन:
केंद्र सरकार ने बढ़ती हुई प्याज़ के दामों को देखते हुए सोमवार को तत्काल इसके निर्यात पर रोक लगा दिया ताकि प्याज़ के कीमतों पर नियंत्रण रखा जा सके।
केंद्र सरकार के इस कदम ने प्याज़ कारोबारियों को नाराज कर दिया है। उनका कहना है कि मानसून के बाद, किसानों की अभी प्याज़ का अच्छा भाव मिलना शुरू ही हुआ था कि सरकार ने निर्यात पर रोक लगा दी।

क्या है प्याज़ के दाम बढ़ने की वज़ह ?
प्याज़ करोबारियों के अनुसार देश में सबसे पहला प्याज़ का फ़सल कनार्टक में तैयार होता है। लेकिन बारिश के वजह से बहुत सारी फसले बर्बाद हो गई। नासिक, महाराष्ट्र तथा मध्यप्रदेश में भी बारिश के वज़ह से काफ़ी फ़सले बर्बाद हो गई। जिस वज़ह से प्याज़ के कीमतों में बढ़ोतरी हो रही है।

Sharad powar on onion price hike
Screenshot :Sharad Pawar twitter

प्याज़ के बढ़ती कीमतों पर हो रही- राजनीति :
जब- जब प्याज़ महँगी होती है। इसपर राजनीति शुरू हो जाती है। कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट कर नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि, कोरोना महामारी की वज़ह से लोगों के जेब में पैसा नहीं है। उसपर से यह कमरतोड़ महंगाई की मार, क्या कर रही है सरकार। उन्होंने कहा कि मोदी और महंगाई दोनों देश के लिए हानिकारक है।

Screenshot :Randeep Sujrewala Twitter

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here