बिहार चुनाव में ओवैसी ने उठाया CAA और NRC का मुद्दा; कहा मुसलमान हीं नहीं हिन्दू भी होंगे इससे प्रभावित

ऑल इण्डिया मजलिस ए इतेहादुल मुसलमीन (AIMIM) के अध्यक्ष असद्दीदुन ओवैसी ने बिहार विधानसभा चुनाव में एक बार फिर CAA और NRC का मुद्दा गरम कर दिया है। शेखपुरा में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए उन्होंने केंद्र और राज्य सरकार पर जमकर हमला किया। उन्होंने मतदाताओं से सरकार बदलने की अपील की।

उन्होंने कहा, CAA और NRC सिर्फ मुसलमानों पर ही नहीं बल्कि हिन्दुओं पर भी भारी पड़ेगा। राजद पर हमला करते हुए कहा कि राजद के नेताओं ने अभी तक इन मुद्दों पर अपनी जुबान तक नहीं खोली है। लेकिन हमारा मुख्य मुद्दा CAA और NRC है। उन्होंने कहा कि पचास प्रतिशत से भी ज्यादा हिन्दुस्तानी इन कानूनों से प्रभावित होंगे। असम का उदाहरण देते हुए ओवैसी ने कहा कि असम में 20 लाख से ज्यादा लोग एनसीआर की वजह से बाहर गए जिसमे 5 लाख मुसलमान और 15 लाख हिंदु थे। सरकार को सलाह देते हुए ओवैसी ने शिक्षा, रोजगार और स्वास्थ्य को तरजीह देने को कहा।

चुनाव प्रचार के इस दौर में ओवैसी ने भी कई रैलियाँ की जिनमे उन्होंने अपने ऊपर लगने वाले एक धर्म की राजनीति के आरोप को गलत बताया।
बता दें, ओवैसी की पार्टी बिहार में बने एक नए गठबंधन में शामिल हैं जिसका नाम ग्रैंड डेमोक्रेटिक सेक्युलर फ्रंट रखा गया है। जिसमे कुल 6 पार्टियां सामिल है :- आरएलएसपी AIMIM , बीएसपी, समाजवादी जनता दल (डेमोक्रेटिक), जनतांत्रिक पार्टी (सोशलिस्ट), सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी।
इस फ्रंट को ओवैसी ने बिहार की जनता के लिए एक विकल्प बताया।

– ॠतु कुमारी कि रिपोर्ट

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here